About Us

उद्भव, उद्देष्य और लक्ष्यः

patrakar saata, The Best Digital  portal of India for latest crime, political, sports, entertainment, lifestyle, agriculture, career and business news

देश और दुनियां की गिरती अर्थव्यवस्था, मीडिया हाउसिस पर मंडरा रहे वित्तीय संकट के चलते जहां हर रोज अखवार और पत्रकाएं बंद हो रहीं हैं ऐसे समय में Patrakar Satta समाचार पत्र, पोर्टल और न्यूज़ चैनल का मार्केट में उतरना एक बड़े जोखिम से कम नही है।

लोगों का सवाल हो सकता है कि मीडिया संकट के दौर में एक और अखवार क्यों..! इलेक्ट्रानिक मीडिया और शोषल प्लेटफार्म के जरिये त्वरित सूचना प्रसारण युग में आखिर अखवार की महत्ता कितनी शेष है। उक्त सवाल लाजमी हैं और सबसे ज्यादा लाजमी है वह शब्द…’आखिर क्यों’।

खबरियां चैनलों और समाचार पत्रों पर गौर करें तो आपको स्वयं लगने लगेगा कि जिन उद्देश्यों को लेकर अखवारों का उद्भव हुआ था आज वह उदेश्य उनके पृष्ठों से गायब हैं। अखवारों से सूचनाएं गायब हैं, समाचारों का सटीक विश्लेषण गायब है। जनसमस्याओं को लगातार उठाने का जज्बा गायब है। ब्रेकिंग न्यूज चलाने वाले संपादकों का फाॅलोअप से रूझान गायब है।

  • किसानों, मजदूरों, छात्रों, बेरोजगारों और महिलाओं की असल समस्याओं से आंख मूंदे सरकारी महिमा मण्डन के इस युग में चैनलों और समाचार पत्रों में व्यवसायिक और चाटुकार पत्रकारिता का बोल बाला है।
  • स्वच्छंद लेखन करने वाले लेखकों के लिए अपनी बात कहने के लिए मंच सीमित हो चले हैं, ‘पत्रकार सत्ता’ अपने कई अनकहे उद्देश्यों को लेकर अपने विभिन्न स्वरूपों के साथ मार्केट में विगत 18 वर्षों से कभी भारी तो कभी हल्के अंदाज में जनता की आवाज बुलंद करता आ रहा है।
  • हमारा उद्देश्य जनता से जुड़ी समस्याओं को सरकार के कानों तक पहुंचाना और सरकार की कार्यप्रणाली और कार्यगुजारी से जनता को अवगत कराना है। प्रभुत्व और प्रभाव के चलते कितने ही समाचार मीडिया संस्थानों की टेबिल पर दम तोड़ देते हैं ऐसे सभी समाचारों को प्रमुखता से उठाने का हमारा प्रयास रहता है। ‘
  • पत्रकार सत्ता’ के पत्रकारों, लेखकों और चिंतकों की कलम अपने पेशे के साथ न्याय कर सके और न्याय दिला सके तो इसके उद्भव का उद्देश्य अवश्य सार्थक होगा।

समाचार पत्र का प्रकाशन बिजनेस नही समाज सेवा है-

समाचार पत्र के प्रकाशन का उद्देश्य मूलतः व्यापार न होकर समाज सेवा की श्रेणी में आता है। विज्ञापन एवं सहयोग राशि अखवार नियमित व अनवरत प्रकाशन का साधन भर है। ‘Patrakar Satta’  का जन्म दबी, कुचली और शोषित आवाज को उठाने के लिए ही हुआ है। यही इसके उद्भव का मूल उद्देश्य है और यही इसका अन्तिम सत्य है। विज्ञापन, प्रसार और प्रचार महज इसे सुचारू रूप से संचालित करने का जरिया मात्र हैं।

आंशू  खुश  हो  होकर पिए
जिंदगी जिंदा दिल से जिए
बदल  डालूंगा  दुनिया  को
कलम जब तक है हांथो में।

संरक्षक 

रमेश श्रीवास्तव
धनंजय उपाध्याय
उमंग गुप्ता एडवोकेट

स्वामी 

शबी हैदर

प्रकाशक 

शबी हैदर

प्रबंध सम्पादक

एस.वी.सिंह

प्रबंध सहायक
 जहूर हैदर
कुमेल हैदर
 ताहिर हैदर

संपादक 

रीता तिवारी

समाचार सम्पादक 

नेहा बाजपेयी

लीगल सेल –
एडवोकेट समीर हैदर
एडवोकेट अवधेश रॉय
एडवोकेट जे.पी. दुबे

Follow on Twiter –https://twitter.com/SattaPatrakar

Follow on Facebook – https://www.facebook.com/patrakarsatta98